हेलिकॉप्टर मनी | Helicopter Money


कोरोना वायरस को लेकर जारी लॉकडाउन 14 अप्रैल 2020 को खत्म हो रहा है. कई राज्य के मुख्यमंत्री इसे बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. ओडिशा, पंजाब और तेलंगाना ने तो लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया. इसमें कोई शक नहीं है कि आर्थिक गतिविधि ठप होने के कारण देश को भारी नुकसान हो रहा है जिसके लिए हर सेक्टर से वित्तीय पैकेज की मांग की जा रही है.
भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन कोरोना वायरस महामारी के कारण पैदा होने वाले आर्थिक संकट से निपटने में मदद करने की इच्छा जताई है. तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने आरबीआई को सुझाव दिया है कि वह राज्य सरकारों को मौजूदा संकट से निपटने में मदद करने के लिए हेलीकाप्टर मनी की अवधारणा को अपनाए और भारत में आर्थिक गतिविधि को बढ़ावा दे.
पूरे विश्व में इन दिनों हेलिकॉप्टर मनी की चर्चा हो रही है. ऐसे में यह क्या होता है इसे समझने की कोशिश करते हैं. हेलिकॉप्टर मनी शब्द नियमित रूप से खबरों में आता रहा है, लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि इसका क्या मतलब है. हेलीकॉप्टर मनी क्या है और यह वर्तमान COVID-19 महामारी को प्रबंधित करने में कैसे मदद कर सकता है!


Helicopter-Money




  • हलिकॉप्टर मनी क्या है?


गहराते आर्थिक संकट के बीच जब लोगों को इस उम्मीद से फ्री में पैसे बांटे जाते हैं कि इससे उनका ख़र्च और उपभोग बढ़ेगा और अर्थव्यवस्था सुधरेगी. यही 'हेलिकॉप्टर मनी' है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, हेलिकॉप्टर मनी का पहली बार प्रयोग साल 1969 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अर्थशास्त्री मिल्टन फ्रीडमैन ने किया था. अर्थव्यवस्था के संदर्भ में इसका अर्थ अपरंपरागत तौर पर आर्थिक नीति में बड़ा बदलाव करना और बड़े पैमाने पर नोटों को छापना और उसे ग्रोथ हेतु बाजार में लगाना है.
हेलिकॉप्टर मनी के तहत देश का सेंट्रल बैंक पहले बड़े पैमाने पर नोटों की छपाई करता है और सरकार को दे देता है. इस प्रोग्राम के तहत सरकार को यह पैसा सेंट्रल बैंक को रिफंड नहीं करना पड़ता है. जब अर्थव्यवस्था की हालत खराब हो जाती है तो सरकार सेंट्रल बैंक की सहायता से मनी सप्लाई बढ़ा देती है जिससे मांग और महंगाई में तेजी आती है.

  • हलिकॉप्टर मनी से भारतीय अर्थव्यवस्था को कैसे मदद मिलेगी?


हेलीकॉप्टर मनी का व्यावहारिक क्रियान्वयन बहुत सावधानी की मांग करता है. इसके माध्यम से देश की सरकार अपने आसमानी आर्थिक संकट के दौरान देश के लोगों को इस आशा के साथ फ्री में पैसे बांटती है कि इससे उनका ख़र्च और उपभोग दोनो ही बढ़ेगे जिसके माध्यम से देश की अर्थव्यवस्था सुधरेगी. हेलिकॉप्टर मनी का सीधा प्रभाव लोगों की डिस्पोजेबल आय में वृद्धि, अर्थव्यवस्था में मांग और मुद्रास्फीति को बढ़ावा देने के इरादे से धन की आपूर्ति में वृद्धि है.

  • तेलंगाना के सीएम ने सुझाव दिया था


हाल ही में तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने सुझाव देते कहा था कि आर्थिक संकट का मुकाबला करने के लिए हमें एक रणनीतिक आर्थिक नीति की आवश्यकता है. आरबीआई को सहजता की नीति लागू करनी चाहिए. इससे राज्यों और वित्तीय संस्थानों को धन अर्जित करने में सुविधा होगी। हम वित्तीय संकट से बाहर आ सकते हैं.
तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने मोदी सरकार से मांग की कि वे फिस्कल डेफिसिट का टार्गेट GDP के तीन फीसदी के मुकाबले पांच फीसदी रखे. इसके अलावा क्वांटिटेटिव ईजिंग के जरिए GDP का पांच फीसदी जारी करने को कहा है. हेलीकॉप्टर मनी आसमानी आर्थिक संकट का समाधान है जो कि महामारी जैसी असाधारण आपदा के दौर में लोगों को बचाने के लिए सरकार की तरफ़ से उन्हें वित्तीय सहायता देने जैसी प्रक्रिया है.